#चाचा अरशद के बयान पर भतीजे महमूद की माफी, इंटरव्यू में बोले- 100 बार मांगते हैं माफी#

- Advertisement -

दारुल देवबंद उलूम के चीफ और जमीयत के धर्मगुरु अरशद मदनी (Arshad Madani) के अल्लाह और ओम को लेकर दिए गए बयान पर हंगामा जारी है. अब इस पर उनके भतीजे और जमीयत के अध्यक्ष महमूद मदनी (Mahmood Madani) ने अपनी बात रखी है. महमूद मदनी ने कहा कि अगर किसी को ठेस पहुंची है तो हम 100 बार माफी मांगते हैं. जो भी हुआ वह ठीक नहीं हुआ. हमें लगता है कि ये जोड़ने वाली बात है, लेकिन अगर किसी को लगता है कि ये बात तोड़ने वाली है तो ये चर्चा का विषय है. इस दौरान, मदनी ने सर्व धर्म समभाव के लिए भारत की भी तारीफ की. उन्होंने कहा कि दुनिया में ऐसा दूसरा देश कोई नहीं है.

सवाल: अरशद मदनी के बयान पर हंगामा हुआ है. कार्यक्रम अन्य धर्मगुरु उठकर चले गए, इसपर आप क्या कहेंगे?

जवाब: महमूद मदनी ने कहा कि जो हुआ वह अच्छा नहीं हुआ. हम उसको दर्भाग्यपूर्ण और तकलीफदेह समझते हैं. यह अफसोसनाक है. हमें इसपर दुख है. हमारा ये अटूट विश्वास है कि हमारी किसी बात से, बयान से किसी को ठेस नहीं पहुंचनी चाहिए. अगर किसी को ठेस पहुंची है तो हमें 100 बार माफी मांगनी चाहिए. संवाद इसी का नाम होता है. लोग अपनी-अपनी बात कहते हैं. सबको एक मर्यादा के अंदर अपनी बात कहने की आजादी होनी चाहिए. आचार्य ने भी इस आजादी का फायदा उठा है. उनको पहले एक बार अपनी बात कहने का मौका मिला और बाद में भी जब उनको आपत्ति हुई तो उन्होंने अपनी बात कही. उन बातों पर भी बहुत सारे लोगों को बहुत सारी आपत्ति है.

- Advertisement -

आचार्य हम सभी से बहुत लंबे समय से जुड़े हुए हैं. उनका मेरे दिल में बहुत सम्मान है. यही तो खूबसूरती है हमारे देश की, यहां अलग-अलग मान्यताओं और धर्मों के, अलग-अलग वेशभूषाओं के, अलग-अलग भाषाओं के लोग इस देश में रहते हैं. दुनिया में ऐसा कोई दूसरा देश नहीं है. भारत ही अकेला ऐसा है.
सवाल: अल्लाह और ओम एक हैं. अल्लाह पहले हैं. आप इस बयान को किस तरह से देखते हैं. उनका ये बयान ऐसे मंच पर देना जहां सभी धर्मगुरुओं को बुलाया गया था. इसे आप किस नजर से देखते हैं.

जवाब: महमूद मदनी ने कहा कि मैंने स्वामी चिदानंद का इंटरव्यू सुना है. ये बड़ी बात है. ये सबको जोड़ने की बात है. लेकिन अगर उनको लगता है कि ये तोड़ने वाली बात है तो ये डिबेट का विषय है.

सवाल: अरशद मदनी का जो बयान है, उसपर जमीयत का क्या स्टैंड है?
उत्तर: महमूद मदनी ने कहा कि लोग अलग-अलग बातें करते हैं. इस मामले को लेकर जो हमारा आधिकारिक वर्जन है वो छपा हुआ है. हमारी वेबसाइट पर भी मौजूद है. हम उसी पर हैं.