#मनीष कश्यप का दोस्त चढ़ा EOU के हत्थे, पूछताछ के बाद जेल भेजेगी पुलिस; फर्जी वीडियो फैलाने का आरोप#

- Advertisement -

बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई (EOU) ने बुधवार को यूट्यूबर मनीष कश्यप (Manish Kashyap) के एक दोस्त नागेश कश्यप (Nagesh Kashyap) को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि तमिलनाडु (Tamil Nadu) में बिहार प्रवासियों पर हमले के फर्जी वीडियो साझा करने में नागेश का भी योगदान था।
एक अधिकारी ने गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए बताया कि आरोपित की पहचान नागेश कश्यप के रूप में हुई है। तमिलनाडु प्रकरण (Tamilnadu Video Case) में मनीष कश्यप की गिरफ्तारी के बाद नागेश कश्यप सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर उसके लिए प्रचार कर रहा था।
समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, अधिकारी ने बताया कि मनीष कश्यप के कई दोस्त हैं, जो सोशल मीडिया पर फर्जी वीडियो अपलोड करने और प्रचार करने में शामिल थे। अभी नागेश को गिरफ्तार किया गया है। जांच चल रही है। पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया जाएगा।

बढ़ सकती है मनीष कश्यप की रिमांड
वहीं, दूसरी तरफ मनीष कश्यप को एक दिन की रिमांड पर लेकर EOU पूछताछ कर रही है। इस पूछताछ में तमिलनाडु पुलिस भी शामिल है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, ईओयू मनीष कश्यप की रिमांड अवधि बढ़ाने के लिए फिर से कोर्ट जाएगी। ईओयू के पास सवालों की लंबी सूची है। इसमें फर्जी वीडियो शेयर करने के उद्देश्य से लेकर पूरी साजिश में शामिल नेटवर्क के बारे में जानकारी जुटाना है।
आधा दर्जन कोचिंग संस्थानों को नोटिस
इसके अलावा वित्तीय लेन-देन को लेकर भी सवाल-जवाब किए जाएंगे। ऐसे में एक दिन की रिमांड पुलिस को कम लग रही है। पुलिस कम से कम पांच से सात दिन की रिमांड के लिए फिर से आवेदन कर सकती है। यूट्यूबर मनीष कश्यप और यूट्यूब चैनल से जुड़े खातों की जांच के बाद आधा दर्जन कोचिंग संस्थानों को भी ईओयू ने नोटिस जारी किया है। इनमें प्रतियोगी परीक्षा कराने वाले कई प्रसिद्ध कोचिंग संस्थान शामिल हैं। इनके और मनीष के बीच पैसों के लेन-देन के साक्ष्य ईओयू को मिले हैं।