#’चोरी न करने की ली कसम, हो गया बीमार’, गुरु से टिप्स ले रहा गैंगस्टर गिरफ्तार, दो फूल तोड़ेंगे कोडवर्ड#

- Advertisement -

आगरा में हरीपर्वत थाने से 15 हजार रुपये का इनाम गैंगस्टर चोरी का प्रशिक्षण ले रहा था। गुरु उसे अकेले चोरी करने का तरीका सिखा रहा था। पुलिस ने गैंगस्टर को घेरा तो गुरु और उसका साथी भी हाथ आ गए। थाने में गुरु का पुलिस से कहना था कि चेले के चक्कर में वह पकड़ा गया। पुलिस ने शनिवार तीनों आरोपितों को जेल भेज दिया
15 हजार रुपये का था इनाम
पुलिस उपायुक्त विकास कुमार ने बताया कि कपिल उर्फ हवसी निवासी देवघर, झारखंड हरीपर्वत थाने से गैंगस्टर में वांछित था। उस पर 15 हजार रुपये का इनाम था। कपिल पूर्व में गिरोह के साथ लूट आदि की घटनाएं करता था। पुलिस को उसकी तलाश थी। घटिया आजम खां क्षेत्र से गैंगस्टर समेत तीन को पकड़ लिया। पकड़े गए दोनों आरोपितों ने अपना नाम नसरूद्दीन उर्फ नस्सो और कलुआ निवासी मनिया धौलपुर बताए।
धौलपुर से आता था चोरी करने
पूछताछ करने पर पता चला कि गैंगस्टर को नसरूद्दीन उर्फ नस्सो चोरी करने का प्रशिक्षण दे रहा था। नस्सो अकेले चोरी करता है। वह धौलपुर से यहां घटनाएं करने आते थे। उसके खिलाफ आगरा में 15 अभियोग दर्ज हैं। पुलिस ने आराेपितों से 15 आधार कार्ड बरामद किए हैं।

चोरी न करने की ली कसम, हो गया बीमार
नस्सो ने पुलिस को बताया कि वह चोरी न करने की कई बार कसम ले चुका था। सुधरने का प्रयास किया। मगर, वह लंबे समय तक चाेरी न करे तो बीमार हो जाता है। परिवार वाले भी उसे बोझ समझने लगते हैं। वह इतने दिनों से अकेले चोरी कर रहा था। जिसके चलते पुलिस नहीं पकड़ सकी। कपिल को अकेले चाेरी करने का प्रशिक्षण देने के चलते उसे साथ लेकर आ रहा था। उसके चक्कर में वह भी पकड़ा गया।
दो फूल तोड़ेंगे था कूटभाषा संकेत
नस्सो ने पुलिस को बताया कि घर के गेट पर कूड़ा और ताला पड़ा देखकर उसे चिन्हित करते थे। चिन्हित घर पर साथी को बुलाने के लिए सांकेतिक भाषा दो फूल तोड़ेंगे कहते थे। महिलाएं तिजोरी की चाबियां अलमारी के ऊपर, बेड के नीचे और बर्तनों में रखती हैं। जिसके चलते वह चाबियाें को इन्हीं स्थानों पर तलाश करते थे।