#Kanpur: फरवरी में हर रोज 42 मरीजों को पड़ा हार्ट अटैक, कार्डियोलॉजी में छह दिन में आए 250 रोगी, ऐसे करें बचाव#

- Advertisement -

फरवरी के छह दिन में हार्ट अटैक के 250 रोगी कार्डियोलॉजी में भर्ती हुए हैं। इस हिसाब से औसतन करीब 42 मरीजों को रोजाना अटैक पड़ा। चौंकाने वाली बात यह है कि इनमें 50 फीसदी रोगी ऐसे हैं, जिन्हें पहली बार अटैक पड़ा। इनकी खून की नली में बहुत बड़ा थक्का जमा था। इन रोगियों में 65 फीसदी सिगरेट और तंबाकू के लती मिले हैं। ज्यादातर रोगी गोल्डन आवर में कार्डियोलॉजी आए। इनके ठीक होने की संभावना 95 से 98 फीसदी है।

कार्डियोलॉजी के निदेशक प्रोफेसर राकेश वर्मा ने बताया कि 250 रोगियों में सवा सौ रोगी ऐसे थे, जिन्हें पहली बार हार्ट अटैक पड़ा है। इनका आयु वर्ग 35 से 45 वर्ष रहा है। धूम्रपान और तंबाकू के सेवन का रक्तवाहिनियों पर बुरा असर पड़ता है। पहले कोई तकलीफ नहीं हुई। जब ठंड के कारण शरीर पर स्ट्रेस आया और रक्तवाहिनियां सिकुड़ीं तो हार्ट अटैक पड़ गया। रोगियों ने पहले ब्लड प्रेशर की जांच नहीं कराई। इससे इन्हें अपना रोग पता नहीं था। हल्का ब्लड प्रेशर पहले से रहता है। जांच न कराने से पता नहीं चल पाता।
कार्डियोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. उमेश्वर पांडेय का कहना है कि 65 फीसदी रोगी सिगरेट और तंबाकू के लती निकल रहे हैं। इनके बड़ा थक्का जम जाता है। इसके अलावा बहुत से रोगी ब्लड प्रेशर की दवा बंद कर देते हैं। अपने से होम्योपैथी और आयुर्वेदिक दवाएं खाने लगने के कारण दिक्कत हो जाती है। दवाएं शुरू करने बाद बीच में बंद कर देने से सख्त किस्म का थक्का जमता है और ज्यादा बनता है। ऐसे रोगियों की बचाना मुश्किल पड़ जाता है। रोगी नहीं जानते लेकिन अंदर-अंदर कोलेस्ट्राॅल जमा करता है। इसके अलावा युवाओं का खानपान बिगड़ा है। घी-तेल की चीजें अधिक खाने से कोलेस्ट्राॅल बढ़ जाता है।

ऐसे करें बचाव
– कोई दिक्कत नहीं है फिर भी एक बार बॉडी चेक अप करा लें।
– सिगरेट पीना, तंबाकू उत्पादों का सेवन बंद कर दें।
– 30 साल और अधिक आयु के लोग बीपी की जांच करा लें।
– कोलेस्ट्राॅल, ट्राइग्लीसिराइड बढ़ा है तो दवाएं खाएं, परहेज करें।
– हार्ट अटैक के हल्के लक्षण आएं तो नजरअंदाज न करें।
– जिम में क्षमता से कम व्यायाम करें।

- Advertisement -

फरवरी में हार्ट अटैक का आंकड़ा
एक फरवरी: 51 रोगी
दो फरवरी: 55 रोगी
तीन फरवरी: 30 रोगी
चार फरवरी: 42 रोगी
पांच फरवरी: 39 रोगी
छह फरवरी : 33 रोगी