#विकसित भारत संकल्प यात्रा: ‘मोदी की गारंटी पर लोगों का भरोसा, हर गरीब वीआईपी’; विपक्षियों पर क्या बोल गए पीएम?#

- Advertisement -

‘विकसित भारत संकल्प यात्रा’ के लाभार्थियों से बातचीत कार्यक्रम में पीएम मोदी ने संबोधन दिया। जिसमें उन्होंने केंद्र सरकार की योजनाओं की उपलब्धियों पर जोर दिया। पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान कहा कि चुनाव जीतने से पहले लोगों का दिल जीतना जरूरी है। पांचों राज्यों के विधानसभा चुनावों में से तीन राज्यों में भाजपा ने बंपर जीत हासिल की है। इसी को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि लोगों ने स्पष्ट कर दिया है कि मोदी की गांरटी पर लोगों ने भरोसा जताया है।

माई-बाप की सरकार नहीं, बल्कि सेवा करने वाली सरकार
वहीं संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर चुटकी लेते हुए कहा कि कुछ राजनीतिक दल यह बिल्कुल नहीं समझते हैं कि झूठ बोलकर कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता है। हमारी केंद्र सरकार ने देश की जनता के साथ सीधा संबंध स्थापित किया है। साथ ही कहा कि हमारी सरकरा माई-बाप सरकार नहीं, बल्कि माता-पिता की सेवा करने वाली सरकार है। उन्होंने कहा कि मैं आपकी सेवा के लिए लगातार काम कर रहा है।

हमें गरीबों, वंचितों की परवाह- पीएम मोदी
पीएम मोदी ने संबोधन में कहा कि जिनकी किसी को परवाह नहीं, हम उनकी चिंता करते हैं। गरीबों, वंचितों के लिए कार्यालयों के दरवाजे बंद थे। लेकिन हमें सभी बंधनों को खोल दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे लिए वीआईपी हर गरीब, हर मां, हर बेटी, बहन है। हर किसान वीआईपी, हर युवा मेरे लिए वीआईपी है।

- Advertisement -

विपक्षियों पर कटाक्ष करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मुझे समझ नहीं आता देश हमारे विरोधियों पर भरोसा क्यों नहीं करता। उसका कारण यह है कि वह सिर्फ झूठी घोषणाएं ही करते हैं। चुनाव सोशल मीडिया से नहीं बल्कि जनता के बीच जाकर जीते जाते हैं। चुनाव जीतने से पहले लोगों का दिल जीतना जरूरी है। मोदी ने कहा कि यह संतोष की बात है कि जैसे-जैसे यात्रा वाहन अधिक से अधिक स्थानों पर पहुंच रहे हैं, लोगों का उत्साह बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि करोड़ों से अधिक लोग ‘मोदी की गारंटी’ यात्रा से जुड़े हैं।

बता दें विकसित भारत संकल्प यात्रा पूरे देश में सरकार की प्रमुख योजनाओं की संतृप्ति प्राप्त करने के उद्देश्य से शुरू की जा रही है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लाभ सभी लक्षित लाभार्थियों तक समयबद्ध तरीके से पहुंचे।