#इमरान खान की गिरफ्तारी पर पाकिस्तान में बवाल, अमेरिका, लंदन और कनाडा में भी समर्थकों का हंगामा#

- Advertisement -

पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद से देश के कई हिस्सों में हिंसा शुरू हो गई है। पाकिस्तान एंटी करप्शन एजेंसी ने इमरान खान को इस्लामाबाद हाई कोर्ट से ही गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि इमरान अल-कादिर ट्रस्ट भ्रष्टाचार मामले के आरोप में अदालत में पेश हो रहे थे। इसके बाद से हिंसा शुरू हो गई और सड़कों पर जमकर विरोध प्रदर्शन हुए। समर्थकों और PTI के कार्यकर्ताओं ने लाहौर में कॉर्प्स कमांडर के घर पर भी हमला बोल दिया।
वाशिंगटन में पाकिस्तान के राजदूत के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन
इमरान खान की गिरफ्तारी का असर अमेरिका में भी देखने को मिला। 9 मई को वाशिंगटन में पाकिस्तान के राजदूत के आवास के बाहर एकत्र होकर प्रदर्शनकारियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। वाशिंगटन, न्यूयॉर्क और शिकागो सहित शहरों में प्रदर्शन देखे गए। अमेरिका ने पाकिस्तान में अराजकता पर प्रतिक्रिया व्यक्त की और पाकिस्तान में लोकतांत्रिक सिद्धांतों और कानून के शासन का सम्मान करने का आह्वान किया है।

लंदन के साथ-साथ इन देशों में भी प्रदर्शन
अमेरिका के अलावा लंदन में भी इमरान खान के समर्थकों ने लंदन में पाकिस्तान उच्चायोग के बाहर जमा होकर विरोध प्रदर्शन किया। इमरान खान के साथ एकजुटता का विरोध टेक्सास के डलास और साथ ही कनाडा के एक शहर मिसिसॉगा में भी देखा गया। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, कनाडा में प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान दूतावास के बाहर आज बड़ा विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई है।

इमरान खान कि रिहाई की मांग
वहीं, वाशिंगटन में प्रदर्शनकारियों ने इमरान खान के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया और पीटीआई नेता को रिहा किए जाने की मांग की। प्रदर्शनकारियों के मुताबिक, इमरान खान की गिरफ्तारी पाकिस्तान की लोकतांत्रिक प्रक्रिया के लिए हानिकारक होगी। मैरीलैंड और वर्जीनिया सहित अन्य शहरों से आए प्रदर्शनकारियों ने वाशिंगटन में पाकिस्तान के राजदूत के आवास के बाहर 9 मई की शाम इमरान खान के समर्थन में बैनर और पोस्टकार्ड लहराए।

- Advertisement -

पाकिस्तान में सबसे खराब स्थिति का डर- प्रदर्शनकारी
समाचार एजेंसी ANI से बात करते हुए, एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि ‘अगर इमरान खान को कुछ भी होता है, तो मुझे पाकिस्तान में सबसे खराब स्थिति का डर है। हम उनकी तत्काल रिहाई की मांग करते हैं।’अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने एएनआई को बताया कि अमेरिका के पास राजनीतिक उम्मीदवार या पार्टी पर कोई स्थिति नहीं है। पाकिस्तान में इमरान खान की नाटकीय गिरफ्तारी पर एएनआई को जवाब देते हुए अधिकारी ने लोकतांत्रिक सिद्धांतों का सम्मान करने का आह्वान किया।

अमेरिका, कनाडा समेत इन देशों ने जारी की एडवाइजरी
इससे पहले एक संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान, अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने कहा, ‘हम सिर्फ यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि पाकिस्तान में जो कुछ भी हो रहा है वह कानून के शासन और संविधान के अनुरूप हो। वहीं, यूके के विदेश सचिव जेम्स क्लेवरली ने कहा, ‘हम पाकिस्तान में शांतिपूर्ण लोकतंत्र देखना चाहते हैं। हम कानून के शासन का पालन देखना चाहते हैं। पाकिस्तान में बढ़ती हिंसा को देखते हुए अमेरिका, कनाडा और यूके ने अपने नागरिकों और राजनयिक कर्मचारियों के लिए यात्रा परामर्श जारी किया है।

पाकिस्तान के इन शहरों में हिंसा
जियो न्यूज ने बताया कि पीटीआई कार्यकर्ताओं ने इस्लामाबाद, रावलपिंडी, लाहौर, कराची, गुजरांवाला, फैसलाबाद, मुल्तान, पेशावर और मर्दन सहित पूरे पाकिस्तान के शहरों में विरोध प्रदर्शन किया। कराची में नर्सरी के पास प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए। उन्होंने पुलिस वाहनों पर पथराव किया और स्ट्रीट लाइटें भी फोड़ दीं। इस बीच, पीटीआई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष फवाद चौधरी ने बुधवार को कहा कि पार्टी इस्लामाबाद उच्च न्यायालय द्वारा पार्टी अध्यक्ष इमरान खान की गिरफ्तारी को बरकरार रखने को चुनौती देने के लिए आज सुबह उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी। फवाद चौधरी ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को ‘आश्चर्यजनक’ करार दिया।