#Bull Attack Video : मॉर्निंग वॉक कर रहा था व्यक्ति, सांड ने महज दो सेकेंड में ले ली जान#

- Advertisement -

शहर के संजयनगर में उत्पाती सांड़ के हमले से सेवानिवृत्त बैंक मैनेजर की मृत्यु हाे गई। वहीं एक राहगीर व एक सब्जी विक्रेता घायल हो गए। हादसे के 12 घंटे बाद भी नगर निगम की टीम नहीं पहुंचने से लोगों में रोष दिखा। महापौर से घटना की शिकायत की गई।
चंद सेकेंड में सांड ने ली जान
पशुपालन मंत्री धर्मपाल सिंह के जिले में एक बार फिर से बेसहारा पशुओं को पकड़ने के दावों की पोल खुल गई। वार्ड-16 संजय नगर आशापुरम सेंट्रल स्टेट कालोनी निवासी करुणाशंकर पांडेय बैंक आफ बड़ौदा से सेवानिवृत्त कर्मचारी थे। बुधवार सुबह आठ बजे कालोनी में ही टहल रहे थे। तभी कालोनी में घूम रहे सांड़ ने उन पर हमला कर दिया।
हमले से वह सड़क पर ही सिर के बल गिर गए और तुरंत ही दम तोड़ दिया। सांड़ के हमलावर होने के दौरान वहां मौजूद लोगों में उसे भगाने की हिम्मत जुटाई लेकिन उसके पास तक नहीं जा सके।

वहीं आसपास के लोग सांड़ के आक्रोश को देख घरों में घुस स्वयं को सुरक्षित करने लगे। हमले के बाद स्थानीय लोगों ने घटना की जानकारी स्थानीय पार्षद और महापौर को दी। लेकिन 12 घंटे बाद भी रात नौ बजे तक टीम नहीं पहुंचने पर स्थानीय लोगों में निगम के प्रति रोष व्याप्त हो गया।

मंगलवार को दो लोगों को किया था घायल
भाजपा के मंडल उपाध्यक्ष विवेक पटेल ने बताया कि सांड़ मंगलवार शाम को सेंट्रल स्टेट कालोनी में ही हमलावर हो गया था। इससे वहां टहल रहे 70 वर्षीय अजीत गोयल और एक सब्जी विक्रेता घायल हो गए। अजीत को गंभीर चोट पहुंची वहीं सब्जी विक्रेता को मामूली चोट आई।

हादसे के 12 घंटे बाद भी नहीं पहुंच सकी निगम की टीम
शहर के मध्य सांड़ के उत्पात की शिकायत स्थानीय पार्षद के साथ महापौर काे दी गई। स्थानीय पार्षद बबली पटेल ने इसकी सूचना नगर निगम के अधिकारियों को दी। लेकिन रात नौ बजे तक कोई भी टीम उत्पाती सांड़ को पकड़ने नहीं पहुंच सकी थी। नगर निगम के पशु चिकित्सा एवं कल्याण अधिकारी डा. आदित्य ने बताया कि घटना की रात आठ बजे सूचना मिली, जिसके बाद तुंरत टीम को पकड़ने के लिए भेज दिया गया।

- Advertisement -

शहर में दो हजार से अधिक बेसहारा पशु, हवा में पकड़ने के दावे
शहर में बेसहारा पशुओं की संख्या दो हजार से अधिक है। इन्हें पकड़ने के लिए नगर निगम की काऊ कैचर वाहन दिन भर दोड़ती रही है। बुधवार को संजयनगर में हुए हादसे के बाद निगम की ओर से बेसहारा पशुओं को पकड़ने के दावों की पोल खुल गई। शहर के अंतिम छोर वाले हिस्सों के साथ सिविल ला